बुधवार, 30 सितंबर 2015

#TATASkyTransfer

जैक्सन हाइट-मानवीय भावनाओं का सम्प्रेषण

इन्सान के लिए जिन्दगी में रोटी,कपड़ा और मकान जीने के लिए जरुरी हैं और अब इसी जरुरत में जुड़ गया है “मनोरंजन”. क्या आपको नहीं लगता...? ऐसा...! अब इसके लिए आज के आईटी युग में बहुत सारे साधन हैं, जो आप हम सबको मालूम हैं, पर... जो सबसे सस्ता और सुलभ साधन है...वो है टी.वी. और आजकल तो टेलीविज़न, और अब तो आप टी.वी. अपने मोबाइल पर भी देख सकते हैं. हिंदी की मनोरंजन परोसने वाली चैनलों ने तो ट्रेफिक जाम करके रखा है. पर...इन चैनलों की भीड़ में भी हिंदी की एक चैनल ने अपना चेहरा भीड़ से बिलकुल जुदा रखा है. ये चैनल है “ज़ी” टेलीविज़न का पिछले ही साल लांच हुआ चैनल “जिन्दगी”. ये खासमखास चेहरा इसलिए बन गया है.

वास्तव में ‘जिन्दगी’ चैनल पर पाकिस्तान के जो भी सीरियल आ रहे हैं वे कहानी और उसके प्रस्तुतीकरण के लिहाज से बेहद सराहनीय हैं. कसी हुई पटकथा, कलाकारों का अभिनय, सामाजिक परिवेश सब इतने स्वाभाविक हैं की कहीं भी रचनात्मकता के साथ छेड़छाड़ की हुई दिखाई नहीं देती और भारतीय सीरियलों की तरह कृत्रिमता का बेहूदा डोज़ भी नहीं है. इन सीरियलों की कतार में एक सीरियल “जैक्सन हाइट” कुछ अलग हट कर है. 

“जैक्सन हाइट” न्यूयॉर्क का वो इलाका है, जहाँ अधिकतर एशियन रहते हैं, खासकर भारतीय और पाकिस्तानी.
ये सीरियल मुझे बेहद पसंद है, कारण इसमें मानवीय भावनाओं का सम्प्रेषण जिस तरह से किया गया है वो काबिले तारीफ है. कहानी चार लोंगों के इर्द-गिर्द घूमती है. इसमें खास बात ये है कि अमेरिका में बसने के प्रति जिस तरह से भारतीय और पाकिस्तानियों में क्रेज़ है और उसके लिए किसी भी हद तक जाने को लोग तैयार रहते हैं, उसको बेहद सुन्दर ढंग से प्रस्तुत किया गया है. 

मानवीय भावों में सबसे श्रेष्ठ भाव प्रेम का है. इमरान नामक पात्र अमेरिकन नागरिकता के लिए दो  बच्चों की अमेरिकन माँ से शादी करता है और इसी डर के साए में जीता है कि कहीं उसकी पत्नी उसे तलाक न दे दे, और वह उसे ‘देशी’ कहकर प्रताड़ित करती है. ये शब्द नस्लभेदी है और अमेरिका में रहने वाले भारतीय और पाकिस्तानियों को स्थिति को रेखांकित करता है. इमरान भट्टी की टैक्सी चलाने के दौरान अमेरिका में रह रही पाकिस्तानी महिला सलमा से मुलाकात होती है, एक जो की एक ब्यूटी पार्लर में काम करती है. दोनों के बीच सहज मानवीय भावों का जिस तरह से आदान-प्रदान दर्शाया गया है उसमें छुपे प्रेम के भाव को दर्शक सहजता से लेता है और वो भाव इतना स्वाभाविक है कि उससे विवाहतेर संबंधों की बू नहीं आती, बल्कि इस बात को बल मिलता है कि प्रेम ऐसी अभिव्यक्ति है जिसे हम सीमाओं में नहीं बांध सकते बशर्त की वो सहज प्रेम का भाव हो. और परदेस में तो ये भाव और भी तीव्रता से व्यक्त होता है.

इसी कहानी में दो पात्र जमशेद जो इमरान का भांजा है और कराची से अपने मामा के पास आता है, उसके माता-पिता बचपन में ही गुजर जाते हैं और नानी और मामा के पास पल कर बड़ा होता है और जैसे-तैसे जोड़-तोड़ करके न्यूयॉर्क पहुँच जाता है और अपने मामा की असलियत जान जाता है, जिसने अपने घर कराची में यही बता रखा है कि उसकी स्वयं की टैक्सी कंपनी है और एक बड़ा सा घर है. ये हर उस भारतीय या पाकिस्तानी की कहानी है जो अमेरिका में रहकर अपनी छवि अपने लोगों के बीच बनाकर रखने को मजबूर है

इमरान जमशेद को अपने घर में नहीं रख सकता इसलिए वो उसे जैक्सन हाइट में रेस्टोरेंट चलाने वाली एक पाकिस्तानी महिला मिशेल से एक कमरा किराये पर देने का इसरार करता है. मिशेल बेहद सख्त महिला है और वो बड़ी मुश्किल से मानती है. टूरिस्ट वीसा पर अमेरिका आये जमशेद को वर्क परमिट नहीं होने पर उसे काम नहीं मिल सकता. पर... वो तो अमेरिका की नागरिकता के ख्वाब लेकर आया था, उसे यहाँ आकर निराशा होती है और वो वापस नहीं जाना चाहता. उसे मिशेल अपने रेस्टोरेंट में अनधिकृत तौर पर काम करने की इजाजत दे देती है. मिशेल का १५ साल पहले तलाक हो चुका है और वह किसी के भी साथ कठोरता से पेश आती है उसका मानना है की पाकिस्तानी मर्द भरोसे के काबिल नहीं, पर धीरे-धीरे वह जमशेद पर भोरसा करने लगती है. जमशेद उससे प्यार का इजहार कर देता है जिसे वह स्वीकार नहीं कर पाती, क्योंकि दोनों में १५ साल का अंतर है. जबकि जमशेद जा मानना है कि प्यार में उम्र के लिए कोई स्थान नहीं, वह शायद...मिशेल से इसलिए प्यार कर बैठता है क्योंकि जीवन में माँ के अभाव ने उसे प्रेरित किया हो...जो भी हो अभी कहानी आगे आना बाकि है.
इस तरह का मनोरंजन कोई भी छोड़ना नहीं चाहेगा. पर अपनी व्यस्तता के चलते मै इस सीरियल की एक भी कड़ी मिस नहीं करना चाहती हूँ. और ऐसे में विकल्प के रूप में  #TATASky Transfer मेरे लिए हवा के झोंके की तरह आया है. अब मै आराम से प्रोग्राम को रिकॉर्ड कर अपने मोबाइल में ट्रान्सफर कर कभी भी देख लिया करुँगी. मै # TATA Sky Transfertata को धन्यवाद देना चाहती हूँ कि उसने मेरे पसंदीदा सीरियल को सहेजने का मौका मेरे लिए उपलब्ध करवा दिया.

http://www.tatasky.com/transfer/



<iframe width="350" height="200" src="https://www.youtube.com/embed/C5t0g1TjfdM" frameborder="0" allowfullscreen></iframe>






2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 1 - 10 - 2015 को चर्चा मंच पर < a href="http://charchamanch.blogspot.com/2015/10/2115.html"> चर्चा - 2115 /a> में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावपूर्ण प्रस्तुति.बहुत शानदार भावसंयोजन .आपको बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

Ads Inside Post